WhatsApp New Policy

WhatsApp new policy in hindi

WhatsApp की नयी पालिसी क्या है?

8 जनवरी से WhatsApp एक नई  प्राइवेट पालिसी लेकर आयी है, जिसे इस इंस्टेंट Messaging एप्प के यूजर को 8 फ़रवरी तक एक्सेप्ट करना है, नहीं तो अकॉउंट डिलीट हो जायेगा। लोगों में इस बात को लेकर बड़ी उहापोह वाली स्थिति है – अब कहीं सारे पर्सनल इनफार्मेशन लीक तो नहीं कर दी जाएगी WhatsApp द्वारा।

नई शर्तों में कहा गया है कि आपके मोबाइल से ली जाने वाली सारी जानकारियां फेसबुक (Facebook) और इंस्टाग्राम (Instagram) के साथ शेयर की जाएगी।

WhatsApp के जेन्युइन यूजर निश्चिन्त हैं

WhatsApp के जेन्युइन यूजर इस पालिसी पर भी काफी निश्चिन्त हैं। उनका कहना है – ऐसा कुछ भी नहीं है, परेशान वे हैं जो WhatsApp को Messaging एप्प कम, यूनिवर्सिटी ज्यादा समझते हैं। डर वे रहे हैं जिनका काम ही किसी भी फेक इनफार्मेशन को फैलाना है।

यह भी पढ़ें  Positive Pay System : 1 जनवरी से बदल गया चेक पेमेंट सिस्टम

WhatsApp का जस्टिफिकेशन

वैसे WhatsApp ने ऐसे किसी भी आशंका की सिरे से ख़ारिज किया है। यूजर की निजता का पूरा सम्मान हम पहले भी करते आये हैं और आगे भी करेंगे। नई पालिसी में भी हम इसका पूरा ख्याल रखेंगे।

WhatsApp को क्यों लाना पड़ा ये पालिसी

असल में WhatsApp ने अक्टूबर 20 में ही अपने नए बिज़नेस विज़न के बारे में बताया था कि कैसे वो इस एप्प में छोटे व्यापारियों के लिए एक बेहतर विकल्प की व्यवस्था  करने वाले हैं, और यह पालिसी उसी सपोर्ट सिस्टम बहाल करने के लिए है। इस नए सिस्टम के लागू होने पर WhatsApp पर व्यापार करने वालों को काफी मदद मिलेगी।

नए अपडेट से WhatsApp के जरिए शॉपिंग और बिजनेस करना पहले के मुकाबले काफी आसान हो जाएगा। और इसके लिए WhatsApp अपनी पैरेंट कंपनी फेसबुक से भी मदद लेगी।

 

आपकी किन जानकारियों को WhatsApp अपने पास सुरक्षित रखेगा

एप्पल एप स्टोर के अनुसार WhatsApp 16 तरह का डेटा यूजर से लेगा। WhatsApp की नई गोपनीयता नीति और शर्तों के अनुसार, कंपनी आपके

  • यूजर आईडी
  • फोन नंबर, प्रोवाइडर डिटेल
  • ईमेल आईडी
  • फोन डिटेल (डिवाइस की आईडी,  मॉडल, IP आदि, यहाँ तक की बैटरी लेवल भी)
  • सभी कॉन्टैक्ट नंबर
  • बैंक अकाउंट नंबर
  • आपकी एक्टिविटी, अगर इसकी चर्चा किसी ग्रुप में की है
  • मोबाइल से होने वाले लेन-देन
  • फोन की लोकेशन
  • आदि …

कईअहम जानकारियां लेगी। नई शर्तों में कहा गया है कि आपके मोबाइल से ली जाने वाली सारी जानकारियां फेसबुक (Facebook) और इंस्टाग्राम (Instagram) के साथ शेयर की जाएगी।

वाट्सएप्प यूजर क्या करे

यूजर के पास बाइनरी ऑप्शन हैं – या तो टर्म कंडीशन पर एग्री करें या वाट्सएप्प छोड़ किसी दूसरे प्लेटफार्म पर चले जाएँ। टेलीग्राम, Signal, लाइन,  Viber, Google Allo , ChatOn , Jio Chat आदि कई अल्टरनेटिव हैं। 8 फरवरी तक Accept Later का ऑप्शन भी खुला है।

 

WhatsApp यूजर को 8 फरवरी के बाद क्या फील होने वाला है –

फेसबुक इंस्टाग्राम की तरह WhatsApp में भी यूजर के ब्राउज़र सर्च के अनुसार ही Ad भी दिखेंगे।

किसी लोकल व्यापारी का कॉल मैसेज आदि आ सकता है।

उस क्षेत्र के दुकानों का भी Ad दिख सकता है।

 

कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है फेसबुक या इंस्टाग्राम को WhatsApp Pay के जरिए किए गए किसी भी यूजर के डिजिटल ट्रांजेक्शन को देख पाने की इजाजत नहीं होगी। ऐसा इसलिए क्योंकि वाट्सऐप की भारत की पेमेंट पॉलिसी (WhatsApp India Payment Policy) WhatsApp की तरफ से प्राइवेसी में किए गए किसी भी बदलाव (WhatsApp Updated Privacy Policy) को ओवररूल कर देगी। यानी इसके लागू होते ही बाकी प्राइवेसी पॉलिसी के नियम लागू नहीं होंगे।

इस डिजिटल युग में टेक्नोलॉजी में नए सिक्योरिटी  बदलाव के लिए यूजर को हमेशा तैयार रहना होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.