Blue Whale Images

ब्लू व्हेल की प्रेरणा

हर पशु पक्षी से भी कुछ प्रेरणा मिलती है, पर उनमें भी ब्लू व्हेल (Blue Whale) का स्थान सबसे अलग है। जब भी ब्लू व्हेल को देखता हूँ, एक अलग ही प्रेरणा मिलती है। सोचता हूँ उस ‘पैकिसेटस’ (Pakicetid) एनिमल के बारे में जो कुत्ते के साइज का होता था और कभी इंडियन सब-कॉन्टिनेंट के पश्चिमी छोर पर तालाबों के इर्द-गिर्द घुमा करता था।

pakicetus
pakicetus

हाँ, ये कहानी उस युग की है। 5 करोड़ वर्ष पहले जब डायनासोरों का अंत हो चूका था और ममेलियनों में विकास की होड़ ताजी शुरू हुई थी, तब उनके बीच आपस में ही मारने और बचने के षड्यंत्र शुरू हो गए थे। ममेलियनों ने इसी तर्ज पर अपना विकास किया। पर इस छोटे से जीव का नजरिया अलग था। जो कुत्ते के आकार का बकरी जैसा दिखता था – ‘पैकिसेटस’

यह भी पढ़ें  अजूबा : 62 वर्ष की उम्र में मादा अजगर ने अंडे दिए

वो भी ताजा-ताजा पानी से निकलकर उभयचर जीव बना था। जब पैकिसेटस को शिकारियों द्वारा सताया जाने लगा तो उसने उनके साथ उलझने में विश्वास नहीं किया। पैकिसेटस ने एक नया ही तरीका ईजाद किया। एक अलहदा और ज्यादा ग्रेसियस रणनीति। खुद को बुलंद करने का तरीका। उसने खुद को बड़ा करना शुरू किया। सामने जो भी चुनौती के रूप में आता वह उससे बड़ा रूप इख्तियार कर लेता। इस तरह चुनौती स्वयमेव अप्रासंगिक हो जाती थी। वो लकीर पीटने के बजाय एक बड़ी लकीर खींचने में बिलीव करता था।

उसने एक-दुसरे की काट ढूंढने में कोई रूचि नहीं ली। वो पारस्परिक प्रतिस्पर्धा के षड्यंत्रों और कुचक्रों से अलग रहा। उसे ‘शह और मात’ के खेल में कोई दिलचस्पी नहीं थी। उसे इवोल्व (Evolve) तो होना था पर इन्वोल्व (Involve) नहीं। उसे बढ़ना था, लड़ना नहीं। अपने उद्देश्य की पूर्ति के लिए उसने बड़ा अनूठा रास्ता चुना। खुद को इतना बड़ा कर लो कि चुनौतियाँ छोटी पड़ जाएँ | और सच में अपनी जीवटता और अनोखी नीति के बल पर वो इतना बड़ा हो गया कि उसके सारे शत्रु उसके सामने बौने पड़ गए। इतने बौने कि कोई थ्रेट ही न रहे। आज वो धरती का सबसे बड़ा जीव है  – ब्लू व्हेल उसी का नाम है। आज भी विशाल महासागर में ब्लू व्हेल का कोई शत्रु नहीं है। कोई शिकारी नहीं है।

ब्लू व्हेल (Blue Whale) “Never Ever Happened” जीव है।

ब्लू व्हेल लार्जेस्ट (Largest) है, लाउडेस्ट (Loudest) है, हैवीएस्ट (Heaviest) है, ग्रेटेस्ट (Greatest) है। इसलिए तो समुद्र ने उसे अपने नील रंग से नवाजा है। ब्लू व्हेल के घुमने का दायरा सबसे बड़ा है। वो विशाल समुद्र को मथते चलता है। वो सबसे अलग है। वो “Never Ever Happened” जीव है। वो धरती पर हुआ अब तक का सबसे बड़ा जीव है। गर्व कीजिए कि आप ब्लू व्हेल के पीरियड में जी रहे हैं।

By Sunil Sinkretik

लेखक- 'बनकिस्सा' | Snake Expert

Leave a Reply

Your email address will not be published.