shetpal village PC- ausamachar.com

भारत का सर्पलोक

आमतौर पर सांप को देखकर ही लोगों का दिमाग सन्न हो जाता है। सांपों को अपने घर में प्यारे जीव-जंतु की तरह पालना यह एक सुनी सुनाई कहानी जैसी ही लगती है। लेकिन यह बात सच है, भारत में एक ऐसा जगह भी है जहां के लोग अपने घरों में सांपों को बड़े प्यार से पालते हैं।

*महाराष्ट्र में है यह गांव*

महाराष्ट्र के सोलापुर जिले में शेतपाल नामक गांव में सांपों को पालतू पशु की तरह प्यार से अपने घरों में आश्रय दिया जाता है। यह गांव पुणे से 200 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

अन्य गांव की तरह ही यह एक साधारण सा गांव है परंतु यहां की यह एक विशेष खासियत है की यहां के लोग सांपों को घर के सदस्य की तरह रखते हैं, बच्चे उनके साथ खेलते हैं।

*सबसे विषैले सांप कोबरा को पाला जाता है*

यहां सबसे विषैला सांप कोबरा जिसे नाग कहते हैं, उसको पालने का शौक रखते हैं। एक घर नहीं इस गांव के सभी घरों में सांपों के रहने के लिए विशेष व्यवस्था की जाती है। घर कच्चे हो या पक्के हर घर के छतों के पास सांप के रहने के लिए बिल बनाया जाता है।

*बच्चे खेलते हैं सांपों के साथ*

यहां के घरों के अलावा स्कूल और पब्लिक प्लेस में भी सांप बेखौफ घूमते रहते हैं। सांप एक घर से दूसरे घर मेहमानों की तरह घूमते रहते हैं और उनके साथ-साथ बच्चे भी घूमते हैं।

घरों में सांप इस प्रकार घूमते हैं जैसे वह कोई खतरनाक जीव ना होकर परिवार का हिस्सा ही हो, लोग भी इससे बेपरवाह अपना अपना काम करते रहते हैं

*धार्मिक आस्था से जुड़ा है सर्प-पालन*

भारत में प्राचीन काल से विभिन्न जीव जंतुओं की पूजा होती आ रही है। इसमें सांप भी आते हैं, जिन्हें भगवान शिव धारण करते हैं। धार्मिक आस्था के कारण यहां के लोग सांपों का पालन करते हैं।

इस गांव में और गांव के बाहर कई सर्पमंदिर भी हैं। यही कारण है कि यहां के लोग सांपों को नुकसान नहीं पहुंचाते और उन्हें आश्रय देते हैं।

*सांपों के रहने के स्थान को देवस्थानम कहा जाता है*

घर में छत के पास एक विशेष स्थान बनाया जाता है, जिसे देवस्थानम् कहा जाता है अर्थात देवताओं का निवास स्थल।

सबसे खास बात है आज तक सांप के कारण किसी की मृत्यु नहीं हुई इस गांव में इतने सारे सांपों के रहने के बावजूद आज तक इस गांव में किसी भी व्यक्ति की मृत्यु सांप काटने के कारण नहीं हुई।

सचमुच यह गांव अपने आप में निराला है। इन्हीं कारणों से इस गांव को सर्प लोक का नाम दिया गया। इन्हीं विशेषताओं के चलते दूर-दूर से लोग इस गांव को देखने आते है।

इस वीडियो में देखिये इस अजूबे गांव का रहस्य 

हमारा भारत यूं ही बेमिसाल नहीं है, यहां सच में प्रेम की गंगा बहती है, और इसका जीता- जागता उदाहरण है, महाराष्ट्र का यह ‘शेतपाल गांव’।

By कुनमुन सिन्हा

शुरू से ही लेखन का शौक रखने वाली कुनमुन सिन्हा एक हाउस वाइफ हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.